SEO क्या है ? और क्यू जरूरी है – (पुरी जानकारी)

क्या आप भी ब्लॉगर हो ?

क्या आप की Website गूगल पर Rank करानी है ?

तो आप सही जगह पे आए हो, क्यूकी  आज हम बात करने वाले हे की Seo Kya Hai (what is seo in hindi)ओर Website को Google में रैंक कैसे करें…

SEO  इस तीन शब्द के ऊपर Internet ओर Digital Marketing निर्भर है। आपको सायद  पता होगा की बड़ी बड़ी कंपनिया ओर बड़ी वेबसाइट लाखो रूपिये खर्च करते  सिर्फ SEO के पीछे आखिर क्यू ?

आज हम आपको Simple शब्दों में समजाने की कोसिस कर ते है Seo Kya Hai ( What is SEO in Hindi ) अगर आप इस Post को एक बार ध्यान से पढ़ ले तो आप आसानी से SEO के बारे में जान जायगे।

तो चलिए शरू करते है।

SEO क्या है ? ( what is seo in hindi )

अब हम Basic से समजेगे की Seo Kya Hai (seo in Hindi) ओर कैसे काम करता है ? 

SEO का पूरा नाम ( Search Engine Optimization ) है SEO का Main कार्य Search Engine से होता हे मतलब हमारी कोई वैबसाइट है उसको टॉप पर लाने के लिए उसको पहले पेज  पर लाना है, तो SEO करना बहुत जरूरी होता है.

जब SEO करेंगे तभी हमारी वैबसाइट पहले पेज पर आयेगी ओर आपकी वैबसाइट पे Trafic Increse होगा आपकी वैबसाइट पे ट्राफिक आने से आप थोड़ा कुछ Earn कर सकोगे वरना आप कितनी भी कोसिस कर लो SEO के बिना आपकी वैबसाइट कभी भी पहले पेज पर नही आयेगी। 

अगर आप Seo को एक लाइन में समझना चाहते है तो आप यह जान ले कि google वही content को पसंद करता है जिसे user पढ़ना पसन्द करते है। उस वजह से  content अपने आप first page पर चला जाता है। और अगर पसंद नही करता तो धीरे- धीरे नीचे चला जाता है। यह Google Seo का सबसे बड़ा Important Factor है।

आप को यह जानकर बहोत आश्चर्य होगा की Website बनाना और लोगो  तक उसको दीखाना दोनों बहुत ही अलग बातें होती हे । वेबसाइट बनाने के लिए Programming Languages या WordPress का प्रयोग  किया जाता है। ओर ज्यादा से ज्यादा लोग हमारी वेबसाइट को देखें इसके लिये SEO करना होता है।

उदहारण लिजिये मैने एक वैबसाइट बनाया  Allhindi.in बनाने के लिये WordPress का Use किया है,लेकिन  इस Website को सब लोग तक लाने के लिये हमे SEO करना बहोत  जरूरी होता है।

अगर आप इन थोड़े Rules को Follow करके SEO करते हो तो आप आपकी वेबसाइट को Serch Engine में first Page पर बड़े आराम से ला सकते हो ।

Types Of SEO

seo-kya-hai

SEO तीन प्रकार के होते है पहला On Page SEO, Off Page SEO  ओर Local SEO हमे हमारी पोस्ट फ़र्स्ट पेज पर लाने के लिए ये तीनों करना बहुत जरूरी है । 

  1. On Page Seo
  2. Off Page Seo
  3. Local Seo

1. on page ( on page seo in hindi )

सबसे पहले हम बात करते है On Page Seo के बारे में क्योकि यह Website पर Organic Traffic Increase करने का सबसे महत्वपूर्ण भाग है।

सबसे पहले आपको अपनी Website को सही तरीकेसे Design करनी पड़ेगी बिलकुल यूसर फ्रेंडली, आपको यूसर फ्रेंडली करने के लिए आपको SEO Frendly टेम्पलेट या थीम Choice करनी  पड़ेगी जिससे आपकि साइट यूसर  फ्रेंडली रहे । 

Seo Rule को फॉलो करके आप अच्छी तरह से अपना Contant लिखना ओर उसमे Proper तरीकेसे Keyword Reserche करके उसका इस्त्माल करना पड़ेगा। 

Keyword का इस्तमाल हमारी पोस्ट मे सही जगह पर करना चाहिए जेसे क Title मे Meta Descripation मे ओर Content मे करना चाहिए इससे गूगल को आपकी वैबसाइट ढुढ्ने मे बहोत आसानी होती हे ओर गूगल को पता चले की आपने किस Content पे पोस्ट लिखी हुवी है उससे आपकी वैबसाइट गूगल पर Rank करने मे हेल्प कर्ता है ओर आपकी वैबसाइट पे अच्छी ख़ासी Traffic आने लगती है।

On Page SEO कैसे करे ?

अब हम बात करेंगे की कैसे आप अपने ब्लॉगर ब्लॉग और WordPress का on पेज seo कर सकते है। अगर आप blogger का इस्तेमाल करते है तो भी यही on page seo tips काम आती है।

On Page SEO मे सारा काम हमे आर्टिकल के अंदर ही करना होता है । ये कुछ On page Techniques ये छोटी छोटी टिप्स है लेकिन ब्लॉग रैंकिंग को बहुत उपर ले जाती है इसलिए इन्हें ध्यान से पढ़ना।

1. Meta description

ये तो अपने जान लिया कि ब्लॉगर में meta description कैसे ऐड करते है लेकिन अब बारी ये जानने की है कि एक अच्छी meta description कैसी होती है।

ब्लॉगर हो या वर्डप्रेस मेट डिस्क्रिप्शन दोनों के लिए बहुत जरूरी है। मेटा डिस्क्रिप्शन गूगल को ये बताती है कि आपकी ब्लॉग पोस्ट किस टॉपिक पर है और साथ में जब कोई यूजर आपके कीवर्ड्स से रिलेटेड कुछ सर्च करता है तो भी उसे मेटा डिस्क्रिप्शन शो होती है।

जब आप meta description लिखो तो उसमें एक बार main keyword का इस्तेमाल होने चाहिए और साथ मे meta description 160 words से अधिक नही होना चाहिए।

आपको meta description में ये बताना है कि आपने अपनी पोस्ट में क्या क्या जानकारी दी है और किस चीज की जानकारी दी है। 

How to add Meta description in blogger पोस्ट :

अगर आप नही जानते कि ब्लॉगर में Meta description को कैसे add करते है तो नीचे बताए गए steps फॉलो करो।

सबसे पहले आपको अपने ब्लॉगर डैशबोर्ड में जाकर सेटिंग में जाना है।

  • सेटिंग में जाने के बाद आपको सर्च preference पर क्लिक करना है।
  • अब आपको डिस्क्रिप्शन में जाकर उसे enable करना है।
  • अगर आप चाहें तो कुछ लिख भी सकते है नही तो रहने दे।
  • अब अगला स्टेप है कि अब पोस्ट में Meta description कैसे लिखे।
  • तो सबसे पहले पोस्ट पर जाओ वहां साइड में description का ऑप्शन आया है।
  • डिस्क्रिप्शन में अपने मुख्य कीवर्ड का एक बार इस्तेमाल जरूर करें जैसे की हमारा Keyword है SEO क्या है ( SEO Kya Hai )

2. Image alt tag

ब्लॉगर में पोस्ट का seo करने का दूसरा स्टेप है Image alt tag। इसका मतलब है कि गूगल को ये बताना की आपके द्वारा इस्तेमाल की गई इमेज किसी टॉपिक या कीवर्ड पर है। ये एक रैंकिंग फैक्टर भी है।

How to add alt tag in blogger image :

सबसे पहले आपको एक इमेज add करनी है औऱ फिर उस पर क्लिक कर देना है।

उसके बाद आपको एक ऑप्शन दिखेगा properties का उस पर क्लिक करना है।

Next में अब आपको अपने main कीवर्ड को वहां डाल देना है। अब आप ऐसे ही हर फ़ोटो में ऑल्ट tag लगाइए।

3. Permalink

जब कभी भी आप कोई पोस्ट लिखो तो उसमें Permalink को जरूर ऐड करो और उसमें अपनी पोस्ट का मुख्य कीवर्ड जरूर डालो।

Permalink जितना short हो सकें उतना लिखे और Permalink में counting न लिखे और न ही ईयर लिखे।

  • Bad Permalink – https://www.xyz.com/how-to-do-blogger-seo-in-2020
  • Good Permalink – https://www.xyz.com/blogger-seo

तो इस तरह से अपने permalink को लिखे और अब अगर आप ये नही जानते कि blogger में पर्मालिंक कैसे set करते है तो नीचे बताए स्टेप्स फॉलो कीजिये।

How to create custom permalink in blogger :

👉 सबसे पहले पोस्ट के साइड में क्लिक कीजिए अब आपको वहां पर्मालिंक का ऑप्शन मिलेगा।

👉 अब custom पर्मालिंक पर क्लिक करें और पर्मालिंक को अपने तरीके से लिखे।

👉 पर्मालिंक को लिखते समय एक बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि वो short हो और साथ मे पर्मालिंक में मुख्य keyword भी add हो। ये आपकी रैंकिंग improve करता है।

4. Headings

Headings का on page seo में बहुत बड़ा रोल होता है। जब गूगल आपके आर्टिकल को crawl करता है तो वह सबसे पहले Headings को ही पकड़ता है।

जिस भी पॉइंट पर आपको लगे कि यहां Headings होनी चाहिए तो आप वहां Headings ऐड कर ले।

How to add headings in blogger :

सबसे पहले आप उस लाइन को सलेक्ट कर लीजिए जिस को आपको heading बनाना अब आपको ऊपर action bar में normal पर क्लिक करना है।

अब आपको अपने हिसाब से कोई भी एक हैडिंग choose कर लेनी है अगर वो मुख्य हैडिंग है तो 1st ऑप्शन पर click करें अगर मुख्य हैडिंग के अंदर कोई हैडिंग है तो sub heading पर क्लिक करें।

5. Long article

अगर आप ब्लॉगिंग करते हो और Long article या in depth article नही लिखते तो आपकी ब्लॉग शायद ही लंबे समय तक चल सके।

Long article का ये मतलब नही है कि कुछ भी फालतू का article में ऐड कर लो, long पोस्ट लिखने का मतलब है कि एक ही पोस्ट में किसी चीज की पूरी जानकारी दे देना।

उदहारण के लिए आप मेरी इसी blogpost को देख सकते है मैं चाहता तो इस टॉपिक पर 10 पोस्ट लिख सकता था लेकिन मैंने एक ही पोस्ट में वो सारी जानकारी कवर की है ताकि यूजर कि इधर उधर जाना न पड़े और वो सेओ seo kaise kare  मेरी एक ही पोस्ट से सिख लें।

आप जिस भी टॉपिक पर पोस्ट लिख रहे हो उसकी सारी जानकारी एक ही पोस्ट में दे और अगर बात करें कि कम कम एक पोस्ट कितने words की होनी चाहिए तो ये 1500-2000 words के बीच वाली पोस्ट टॉप पर रहती है।

6. Backlinks

Blog की रैंकिंग सुधारने के लिए Backlinks बहुत जरूरी होते है, अगर आपको अपनी साइट की रैंकिंग को गूगल में इम्प्रूव करना है तो Backlinks के अलावा शायद ही कोई बेस्ट way हो।

हमेशा do follow Backlinks ही बनना क्योंकि ये आपकी वेबसाइट की ऑथोरिटी को इम्प्रूव करते है जिस कारण गूगल आपके ब्लॉग को हाई ranking देता है।

7. Robot.txt

अगर आप अपनी ब्लॉग के कुछ पोस्ट, pages को रैंक नही करना चाहते, मतलब की उन्हें गूगल में नही दिखाना चाहते तो आप Robot.txt का इस्तेमाल कर सकते है।

ब्लॉगर में Robot.txt को add करने के लिए निचे के स्टेप्स follow करो

सबसे पहले आपको सेटिंग में जाना है फिर search preference और फिर custom Robot.txt में जाके उसे enable कर देना है।

8. Maintain the keyword density

जब कभी भी आप पोस्ट लिखे तो उसमें keyword density का ध्यान रखे क्योंकि अधिक keyword density को keyword stuffing कहते है इससे आपकी रैंकिंग बिल्कुल zero हो सकती है क्योंकि यह black hat seo का पार्ट है। इसलिए इसे न करें।

एक पोस्ट में keyword density को 3-5% तक ही सीमित रखें। अगर आप keyword stuffing करते हो तो गूगल को लगता है कि आप अपनी पोस्ट रैंक करने के लिए गलत तरीको का इस्तेमाल कर रहे हो। इसलिए वो साइट को zero कर देता है या penalize कर देता है।

9. proper labels and related posts

ब्लॉगर में आप जब भी किसी template को set करें तो एक बात का हमेशा ध्यान रखे कि उसमें labels और related पोस्ट का अच्छा औऱ प्रॉपर जगह widget हो।

इससे एक विजिटर ब्लॉग की अधिक पोस्ट पढ़ सकता है जिससे ब्लॉग का bounce rate कम होगा और ब्लॉग की ranking improve होगी।

10. breadcrumbs seo for blogger

शायद कुछ लोग breadcrumbs seo के बारे में नही जानते होंगे तो breadcrumbs एक रास्ता होता है जहां से होकर यूजर गुजर गुजरा होता है और उस पोस्ट तक आया होता है। जैसे

पहले यूजर होम पे गया फिर सेव वाली कैटगरी में फिर उसने एक पोस्ट सलेक्ट की, ये कुछ इस तरह होगा

Home/cetogary/seo/post

ये एक path होता है जो की seo के लिए बहुत जरूरी है breadcrumbs को add करने के लिए आप एक अच्छे से टेम्प्लेट का इस्तेमाल कर सकते हो।

11. Keyword research

मैंने कई सालों तक पोस्ट लिखने से पहले keyword research नही की, मैं सिर्फ दुसरो को देख कर ही पोस्ट लिखता था।

जिसका रिजल्ट मुझे हमेशा जीरो मिला है। इसलिए हर पोस्ट को लिखने से पहले थोड़ा time निकालकर Keyword research जरूर कर लें।

Keyword research के लिए आप SEMrush का भी इस्तेमाल कर सकते हो ये एक paid टूल है लेकिन अगर आप हमारे लिंक से जॉइन करोगे तो आपको 14 days की फ्री ट्रेल मिलेगी।

12. Bold main keywords aur paragraph

आर्टिकल लिखते समय जब भी कोई ऐसा word, लाइन या पैराग्राफ जोकि बहुत important हो तो उसे बोल्ड जरूर करें।

बोल्ड वर्ड्स को google जल्दी crawl करता है और उसे ये लगता है कि ये भी एक main keyword है और जब कोई उससे related कुछ सर्च करता है तो आपकी पोस्ट हाई रैंक पर जाती है। इससे user experience भी बढ़ता है।

13. Write effective title

जब कभी भी आप अपनी पोस्ट का title लिखो तो उसे बहुत अलग और attractive लिखो ताकि जो भी टाइटल पढ़े वो उस पर आ जाए।

टाइटल में एक बार मुख्य keyword का इस्तेमाल जरूर करें।

14. Use meta description

जब कभी भी आप पोस्ट लिखो तो उसमें meta description जरूर add करिए क्योंकि ये google और यूजर को ये बताता है कि आपकी पोस्ट में क्या क्या जानकारी दी गई है ।

15. Internal linking

Internal linking किसी भी ब्लॉग के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि इससे आपका visitor आपकी ब्लॉग के जॉयदा पेजेज देखता है जिससे बाउंस रेट कम होता है और रैंकिंग बढ़ती है।

16. Outbound linking

जब भी पोस्ट लिखो तो हाई ऑथोरिटी वेबसाइट को जरूर लिंक करें क्योंकि इससे गूगल को लगता है कि इस वेबसाइट पर useful इन्फॉर्मेशन है तभी इसने इतनी हाई ऑथोरिटी वेबसाइट को लिंक किया है।

इसके साथ Outbound linking से यूजर experience भी बढ़ता है। और जिनकी पोस्ट को अपने लिंक किया है आप उन्हें इसकी जानकारी दे सकते हो और बदले में सोशल शेयर या लिंक मांग सकते हो।

17. Add video related to post

अगर हो सके तो हर पोस्ट में कम से कम एक वीडियो पोस्ट से related जरूर add करें ताकि user experience increase हो सके और साथ मे आपकी रैंकिंग इम्प्रूव होगी।

जितनी देर यूजर वीडियो को आपकी पोस्ट से देखेगा उतना आपका बाउंस रेट कम होगा।

18. Use infographics

जब कभी भी infographics ऐड करो तो उसके साथ उसका एक embed code भी दे देना चाहिए और उसमें अपनी पोस्ट का लिंक इससे जब भी कोई उस infographics को इस्तेमाल करेगा आपको backlink मिलेगा।

infographics से भी user experience बढ़ता है और रैंकिंग भी।

19. Main keyword in permalink

जब भी आप अपनी पोस्ट का पर्मालिंक लिखो तो उसमें अपने मुख्य keyword को जरूर ऐड करो ये एक रैंकिंग फैक्टर भी है और user friendly भी।

20. Deep and full information

जब भी आप कोई पोस्ट लिखो तो उसमें ही सारी जानकारी देने के कोशिश करो ताकि यूजर को कहीं औऱ न जाना पड़े और साथ मे वो आपकी वेबसाइट पर अधिक टाइम स्पेंड करेगा जिससे आपकी साइट की रैंकिंग इम्प्रूव होगी।

21. Use keyword in first 100 words

जब भी आप पोस्ट लिखो तो पोस्ट के पहले 100 words में main keyword को कम से कम एक बार जरूर उपयोग में लाएं। इससे आपकी ब्लॉग की रैंकिंग में सुधार आएगा क्योंकि ये एक रैंकिंग फैक्टर है।

22. Use related keywords

जब भी आप पोस्ट लिखो तो उसमें अपने main कीवर्ड से रिलेटेड केवर्डस को जरूर ऐड करे ताकि आपकी पोस्ट एक से ज्यादा keywords पर रैंक हो सकें जिससे आपको अच्छा खासा ट्रैफिक मिलेगा।

23. Use main keyword in last 100 words

पोस्ट में अंत के 100 या 200 words में भी अपने main कीवर्ड का एक बार प्रयोग जरूर करे।

और जब भी आप अपने मुख्य कीवर्ड का इस्तेमाल करो तो उसे bold जरूर करें।

लेकिन एक बात का ध्यान रखे कि main keyword का इतना ज्यादा भी इस्तेमाल न करें कि गूगल उसे कीवर्ड stuffing समझ ले।

24. Keyword stuffing is bad

Keyword stuffing का मतलब होता है अपने मुख्य कीवर्ड का बार बार इस्तेमाल करना।

नए ब्लोगर्स ये गलती करते है कि जब कभी भी वो नया आर्टिकल लिखते है तो इसमे मुख्य keyword का इतना अधिक उपयोग करते है कि गूगल में उनकी रैंकिंग ही नही बन पाती।

एक पोस्ट में मुख्य keyword का लगभग 3-4% ही उपयोग करें।

25. Write for human not for bots

जब कभी भी आप पोस्ट लिखो तो उसे दिल से लिखो कभी भी पोस्ट को लिखते समय उसका seo मत करो।

ऐसा करने से आपका ध्यान भटक जाता है और आप अच्छे से पोस्ट नही लिख पाते।

और जब कभी भी पोस्ट लिखो तो ये सोचकर लिखो की इससे मुझे लोगो की मदद करनी है न कि गूगल में 1st पर जाना है। इसलिए बोल रहा हूँ कि Write for human not for bots.

26. Gifs is improve seo

अपनी पोस्ट में गिफ्स का इस्तेमाल जरूर करें क्योंकि इससे यूजर experience भी बढ़ता है और seo भी सुधरता है।

27. Write eye catching title

टाइटल ऐसा लिखिए जिसे यूजर देखते ही क्लिक करें या उसे टाइटल देख कर लगे कि यहां उसे उसके सभी सवालों के जवाब मिलने वाले है।

पोस्ट का टाइटल active लगना चाहिए न कि lazy इसलिए हमेशा eye catching title ही लिखे और सबसे अलग टाइटल लिखें।

28. Podcast is good for seo

वेबसाइट पर podcast का इस्तेमाल करना भी वेबसाइट के लिए ठीक माना जाता है इससे यूजर experience बढ़ता है और साथ मे बाउंस रेट कम होता है जिससे आपकी रैंकिंग बढ़ती है।

29. Updated blog time to time

अगर आप अपने ब्लॉग को समय समय पर update नही करते तो ब्लॉग की ranking धीरे धीरे अपने आप डाउन हो जाती है क्योंकि गूगल को लगता है कि अब इस ब्लॉग पर नई जानकारी नही मिलती।

ब्लॉग update करने से मतलब है पोस्ट डालना, पेज अपडेट करना, पुराने पोस्ट update करना, थीम में changes करना आदि।

30. Long- tail keywords give great results

Long- tail keywords का इस्तेमाल करके आप गूगल में अच्छी रैंकिंग ले सकते हो। Long- tail keywords से user experience भी बढ़ता है और रैंकिंग भी।

Long- tail keywords का एक example नीचे है

  • Short tail keyword – blogger seo

  • Long- tail keywords – 50 ways to do blogger seo in 2020

आप कुछ इस तरह से Long- tail keywords का इस्तेमाल कर सकते हो।

31. LSI keywords is good for seo

LSI keywords वो keywords होते है जो आपके पोस्ट के मुख्य कीवर्ड से तो अलग होते है लेकिन उसका अर्थ आपके मुख्य कीवर्ड जैसा ही होता है।

जौसे ब्लॉग्स्पॉट on पेज seo and वर्डप्रेस on page seo, अब ये दोनों keywords है तो अलग अलग लेकिन इनका मतलब एक ही निकलेगा।

क्योंकि दोनों पलर्टफ़ोर्म पर on पेज seo same ही होता है तो आप LSI keywords का एक ही पोस्ट में इस्तेमाल करके उन्हें multiple keywords पर रैंक कर सकते हो।

32. Navigation

आपके ब्लॉग की Navigation जितनी अच्छी होगी उतना ही ब्लॉग यूजर friendly होगा। इससे आपकी रैंकिंग बढ़ती है। ये एक रैंकिंग फैक्टर भी है।

33. Add FAQ page in last

FAQ page को ऐड करने से आपका कंटेंट user friendly बनत है और साथ मे ब्लॉग को टॉप रैंकिंग मिलती है।

वर्डप्रेस में FAQ page add करने के लिए आप plugin का इस्तेमाल कर सकते हो और ब्लॉगर मे simply FAQ page लिखकर 5 प्रश्नों के उत्तर दे सकते हो।

यह कुछ एसे तरीके से आप अपने वैबसाइट को ओर ब्लॉग को On Page SEO बिलकुल अच्छी तरीके से कर सकते हो।

Table of Contents

2. off page ( off page seo in hindi )

Off Page SEO का सारा कम बाहर से होता है. Off Page SEO का मुख्य कार्य Backlinks Build करना है।

अब हम बात करेंगे कि कैसे आप अपने blogger ओर wordpress का off पेज seo करे। Off Page SEO का सारा काम हमारे वैबसाइट से बाहर का होता है…मतलब जो भी कूच करना होता है वो हमारी वैबसाइट या ब्लॉग से बहार करना होता है । 

जब आपकी post को internet पर promote और share किया जाता है तो इसे search engine को कुछ signal जाते है की इस बंन्द्दे ने इस टॉपिक पे कोई आर्टिकल डाला है। जिससे search engine उस Post की Ranking increase कर देता है।

Off Page SEO करने के बहुत सारे तरीके है। जिनकी help से आप अपनी Post की Ranking increase करके अपनी website का Traffice ला सकते हो।

1. Link Building

Link Building किसी भी ब्लॉग के लिए बहुत जरूरी है। अगर आपने ब्लॉग के लिए Link Building की है तो इसके अधिक चांस हो जाते है कि आपकी पोस्ट रैंक करेगी।

हमेशा authority sites से ओर Do-follow ही Link Building करें। Link Building का सबसे बेस्ट मेथड guest post है।

2.Social Media

आप सोच रहे होगे की Social Media SEO मे कहा से आया…!! लेकिन दोस्त Social Media भी SEO मे अपने आप बहोत बड़ा फेकटर है ।

वरना तो ये बात हो गयी की आपने अपनी Product बनाई ओर उसका मार्केटिंग ही करना भूल गए, सीधी सी बात हे आप आपके product की martketing ही नहीं करोगे तो आप की product sell भी नही होगी इस लिए Social Media भी SEO का एक बहोत बदा Factor है।

अपने  ब्लॉग को सोश्ल मीडिया मे अच्छी प्रोफ़ाइल बनाके अपनी वैबसाइट का लिंक Add करदों जेसे की facebook, Twitter, Linkdin, Instagram, Tiktok…Etc शेर करने से हमारी ब्लॉग पे एक्सट्रा ट्राफिक आने लगेगा ।

FaceBook : 

  • फेशबूक का यूस करके आप बड़ी आसानी से extra ट्रेफिक ला सकते हो आप फेशबूक पे ग्रुप बना कर अपने ब्लॉग  को promote कर सकते हो ।

LinkDin : 

  • आपको  सायद पता नही होगा Linkdin एक बहोत बड़ा माध्यम हे Social Sharing के लिए आप Linkdin   मे 30,000 हजार connection कर सकते हो…हा सही सुना आपने 30,000 Connection यानि आपका बहोत बड़ा social Network खड़ा कर सकते हो आप ओर Linkdin मे सिर्फ Profeshional लोग ही होते है इस लिए आप अपना बड़ा Affiliate Platform ओर Marketing Platform खड़ा कर सकते हों वहा पे।

TikTok :

  • अभी हाल मे 2020 मे TikTok नंबर 3 पे Trending सोश्ल मीडिया है आप चाहो तो TikTok से भी अच्छी ख़ासी ट्राफिक ला सकते हो फीलहाल टिकटोक ने अभी अभी TikTok Ads स्टार्ट किया हे जिससे आप Targated ट्राफिक ला सकते हो ओर अपनी ब्लॉग की Traffic Incress कर सकते हो. ये भी एक SEO का बहोत बड़ा भाग हे।

Instagram :

  • Instagram भी आभि ट्रेंडिंग social Media माध्यम है आप  Instagram से भी बहोत अच्छी ट्राफिक ला सकते हो Free ट्राफिक ओर Paid ट्राफीक वो कैसे करना है वो मे आपको बतावुंगा ।
  • सबसे पहले आप एक Instagram अकाउंट बनाए फिर आप अपने फील्ड से रेलेटेड #Hashtag के साथ हर रोज 2 से 3 पोस्ट कीजीए ओर साथ मे आपकी वैबसाइट का Linkभी Add कर देना फिर देखिये आपके Followers  रोज Gain होना स्टार्ट हो जाएगा ।
  • ओर आप का bauget हो तो आप instagrame paid Ads भी चला सकते हो ओर ट्राफिक ला सकते हो ।

3. Mobile friendly

अगर आपकी ब्लॉग Mobile friendly नही है तो आपकी ब्लॉग का रैंक होना मुश्किल काम है क्योंकि कई साल पहले गूगल खुद announce कर चुका है कि Mobile friendly वेबसाइट को वह जॉयदा वैल्यू देता है।

Mobile friendly वेबसाइट बनाने के लिए आप ब्लोगर के लिए Mobile friendly templates का इस्तेमाल कर सकते हो। जोकि फ्री में उपलब्ध है।

इसका मुख्य कारण ये भी है कि 90%+ usres वेबसाइट पर मोबाइल से आते है

4. Fast loading speed

वेबसाइट की Fast loading speed भी एक seo फैक्टर है और ये गूगल खुद भी कह चुका है। वेबसाइट की slow loading से यूजर भी irritate होता है इसलिए वो जल्दी ही ब्लॉग से बैक हो जाता है जिससे ब्लॉग का बाउंस रेट बढ़ जाता है और ब्लॉग की रैकिंग घट जाती है।

ब्लॉगर ब्लॉग की Fast loading speed करने के लिए आप low टेम्पलेट्स का इस्तेमाल कर सकते हो और साथ में unusual JavaScript remove कर सकते हो।

5. Sitemap is good for seo

Sitemap आपकी वेबसाइट का एक मैप होता है जो गूगल को ये बताता है कि आपके ब्लॉग पर कौन सी चीज कहाँ पर है।

इसे आप google search console में ऐड करते हो।

  • अपने google search console में जाएं फिर sitemap पर क्लिक करें।
  • फिर sitemap.xml लिख कर सबमिट कर दें।

इस तरिके से आप ब्लॉगर और वर्डप्रेस दोनों का sitemap सबमिट कर सकते हो।

6. Add an RSS Feed Subscription Box

आप अपने ब्लॉग में RSS Feed Subscription Box को ऐड कर सकते है और लोगो के ईमेल इक्कठे कर सकते है।

जब कि user RSS Feed Subscription Box से आपको सब्सक्राइब करता है तो उसे automatically आपकी नई पोस्ट की नोटिफिकेशन उसके ईमेल पर चली जाती है।

7. Blog Commenting

Blog Commenting से आपको no follow backlinks मिलते है लेकिन इसके साथ साथ ही आपको ट्रैफिक भी मिलता है।

और कमेंट में कभी nice post जैसे शब्द न लिखे आप कमेंट ऐसा करे कि जो भी आपका कमेंट पढ़े वो आपकी ब्लॉग पर आ जाएं।

8. Guest Posting

DO follow backlinks और better रैंकिंग के लिए Guest Posting बहुत जरूरी है। Guest Posting आप सिर्फ अपने niche से सम्बंधित ब्लॉग्स पर ही करें और गेस्ट पोस्ट में कम से कम अपनी एक ब्लॉग का लिंक जरूर दें।

9. Forums Posting

आप forums पर अपने प्रश्न पूछ सकते हो और साथ मे पोस्ट का लिंक भी दे सकते हो। या अपने टॉपिक से रिलेटेड प्रश्नों के उत्तर दे सकते हो और साथ मे अवनी ब्लॉग पोस्ट का लिंक दे सकते।

Forums Posting आप सिर्फ उन वेबसाइटों पर करें जो लोकप्रिय हो या आपको do follow लिंक देती हो।

10. Build Trust

जितना अधिक आपकी audience का आपके ऊपर ट्रस्ट होगा उतने अधिक आपके सफल होने के chances होंगे।

Trust बनाने के लिए आपको अपनी audience को बिल्कुल सही और नई जानकारी देने की जरूरत है और साथ मे सारी जानकारी देने की भी जरूरत है।

11.BookMark

अपनी वैबसाइट ओर ब्लॉग के page या Post को BookMarking वाली वैबसाइट मे Submit करना चाहिए क्यूकी इससे आपकी ट्राफिक Incress होने मे मदद मिलेगी। 

12. Build Relationships with professionals

जितने अधिक अच्छे आपके professionals से सम्बंध होंगे उतना अच्छा आपके लिए होगा। क्योंकि आप उनसे जरूरत पड़ने पर मदद ले सकते हो।

साथ मे आप उनसे quality links भी ले सकते हो ये सब आपके और professionals के सम्बन्धो पर निर्भर करता है।

13. Active

नई ब्लॉग जितनी अधिक एक्टिव रहेगी उसे धीरे धीरे उतनी अधिक value मिलेगी। क्योंकि जब कोई नई ब्लॉग बनती है तो गूगल उसे वैल्यू नही देता। क्रॉल ये चेक करते है कि इस नई ब्लॉग पर कुछ अच्छी जानकारी और रेगुलर जानकारी दी जा रही है या नही।

इस सारी process को google sandbox का नाम दिया जाता है कि गूगल आपकी नई ब्लॉग को sandbox में रखता है और जैसे जैसे आप अपनी ब्लॉग पर एक्टिव रहते है वह ब्लॉग को sandbox से निकाल देता है औऱ आपको ऊंची रैंकिंग देता है।

इसी कारण से ब्लॉग पर एक्टिव रहना बहुत जरूरी है और इससे यूजर को भी लगता है कि गए बंदा कुछ अलग कर रहा है और वो आपको वैल्यू देता है।

14. Shareable content

कंटेंट ऐसा बनाइए जिसे हर कोई शेयर करे या अपने field के लोगो के साथ ऐसे सम्बन्ध बनाइए ताकि वो आपकी हर नई पोस्ट को शेयर करें।

कंटेंट के ज्यादा शेयर होने से एक तो आपका traffic increase होता है और साथ मे गूगल में ranking इम्प्रूव होती है।

15.Use SSL Certificate

SSL Certificate का इस्ट्माल करना भी एक Off Page seo ही है ।

SSL Certificate आपके data को Secure(Protect) रखता है, SSL Certificate न होने से Google chrome आपकी वैबसाइट को Unsecure समजता है । 

इससे आपके Reder Back का बटन दबा के वापिस चले जाते है ओर उनसे आपका bounce rate ज्यादा हो जाएगा ओर आपकी ranking कम हो जाएगी ।

3. Local SEO

आप लोगो को सायद पता ही होगा की Local SEO क्या होता है अगर आपको नही पता तो कोई बात नही आज मे आपको simple तरीके से आपको बता ऊंगा Local SEO क्या होता है ?

इसका मतलब सीधा ओर सिम्पल हे Local + Seo यानि किसी Local Audience को targate करके किया जाने वाला SEO को Local SEO कहा जाता है।

मे आपको मेरी भाषा मे एक उदाहरण लेके समजाने की कोसिस करता हु 

अगर आपके पास किसी भी प्रकार का Local Bussnies हो जैसे की आपके पास फटाके की दुकान है आप फटाके बेच रहे हो तो जहा लोगो का आपके पास अक्सर आना-जाना  होता है,

तो आप एक वैबसाइट बना लो फटाके की ex. www.crackers.com यह आपकी एक वैबसाइट हे फटाके की अब आप इस्स वैबसाइट अपने आसपास के लोगो को शेर करो ओर बोलोंगे की आप ये मेरी वैबसाइट से भी फटाके online Order कर सकते हो ओर फटके आपके Addresh पर डेलीवर हो जाएगे उससे आपका काम भी आसान हो जाएगा ओर आपका टाइम भी बचेगा ।

अब इस वैबसाइट को पोपुलर करना है अपने आसपास के विस्तार मे  Perticullar Area को Target कर के इस वैबसाइट को Rank करवाने के लिए जो Proses की जाती है उसे LocalSeo बोला जाता है ।

अब सायद मे आशा कर सकता हु की आप लोग अच्छी तरह से समज गए होगे की Local SEO क्या होता है।

Web 2.0 Link Building

seo-in-hindi

Web 2.0 Link Building क्या है ?

आपकों  सायद Web 2.0 Link Building ये वर्ड सुना होगा अगर आपको पता नही हे की Web 2.0 Link Building क्या होता हे तो मे आपको मेरी भाषा मे समजाने की कोसिस करता हु,

Web 2.0 Link Building बहोत पहले ब्लॉगर इस तकनीक का यूस कर ते थे, हालाकी अभी Web 2.0 Link Building का यूस कम कर रहै हे लेकिन BackEnd मे अभी भी Web 2.0 काम कर रहा है।

बहोत पहले static page थे जो आमतौर पर एक tech geek द्वारा खोजे गए थे लेकिन web 2.0 के विकास के साथ internet को आम जनता के बीच पहुंचाने की योजना बनाई गई थी।

Web 2.0 Link Bulding बननाने के लिए बहुत सारी वैबसाइट अवेलेबेल है Ex. Blogger.com, WordPress.com, wix.com, thumblr, weebly etc..

Web 2.0 Link Building कैसे बनाते है ?

Web 2.0 Link Building बनाना बहुत आसान है हम एक उदाहरण लेके समजते है, जेसे की आपका कोई Domain है तो उससे कोई भी Web 2.0 की साइट से connect करने से जो हमारी वैबसाइट बनती हे उसे Web 2.0 Link Building web कहा जाता है।

उदाहरण :

www.Allhindi.blooger.com

www.Allhindi.wordpress.com

www.Allhindi.thumblr.com

www.Allhindi.weebly.com

Web 2.0 Link Building मे हमारी Main साइट का थोड़ा सा डाटा इस Web 2.0 साइट मे डालने के बाद उसमे हमारी साइट की Link add करनी होती हे जिससे Web 2.0 Rank होने से साथ साथ हमारी Main Website भी Rank हों जाती है , ये Trick आपको सायद पता नही होगी लेकिन ये अभी भी वर्क हो रही हे BackEnd आप भी जरूर try कीजिये ओर रिज़ल्ट देखिये…।

Type of Seo Techniques

seo-kya-hai

Seo Techniques भी दो प्रकार की होती है। इस लिए आपको समझना बहुत जरूरी है।

  • White hat seo
  • Black hat seo

White Hat SEO

जब आप अपनी Blog या website के लिए सिम्पल तरीके से search engine optimization और link building करते है तो उसे white hat SEO माना जाता है । भारत के बड़े बड़े Hindi Blog और Blogger इसी Technique का उयपयोग करते है। यह आपकी website के लिए बहुत लाभदायक होता है। इस्से आपकी website की Authoriety बढ़ने के साथ traffic भी increase होने लगती है ।

White hat SEO क्या है ?

Search Engine Optimise के लिए सर्च एंजन की Guidelines ओर Rules को  Follow  करना  उसे White hat seo कहते हे।

White Hat Seo TechniQues किस तरह यूस करे ?

  • Quality Content
  • website Speed
  • easy And Good Navigationa
  • Title And Meta Description
  • Quality Baccklinks and Link Bulding
  • Using Keyword – Post Title, Post URl, First Paregraph, heding, Meta Descripation, Img Alt Tag, Last Paragraph
  • keyword Density

Black Hat SEO kya hai

Search Engine Optimise के लिए सर्च एंजन की Guidelines ओर Rules को  ignore  करना  उसे Black Hat SEO कहते हे। ( किसी Website या Blog पर ट्रेफिक बढ़ाने के लिए सर्च एंजन के Rules को तो तोड़ना )

Black Hat SEO TechniQues किस तरह यूस करे ? ( सिर्फ जानकारी के लिए )

  • Keyword Stuffing
  • Unrelated Meta Description
  • Doorway And Gateway Post
  • Duplicate Content
  • invisible Keywords

Conclusion : ( SEO क्या है )

तो दोस्तो आज हमने इस आर्टिकल मे बताया की :

  • SEO क्या है ? ( Seo Kya Hai )​
  • Types Of SEO
  • On Page ( On Page Seo In Hindi )
  • On Page SEO कैसे करे ?
  • Off Page ( Off Page Seo In Hindi )
  • Off Page SEO कैसे करे ?
  • Local SEO
  • Web 2.0 Link Building
  • Type Of Seo Techniques
  • White Hat SEO क्या है ?
  • Black Hat SEO क्या है ?

44+ बहतरिन तरीके के साथ आपको बताने की कोसिस की है SEO के बारे मे, आप इन सारे Rule को फॉलो करेगे तो आप भी अच्छी ख़ासी Ranking कर पाओगे।

मे आशा करता हु की आपको मेरा ब्लॉग पसंद आया होगा अगर पसंद आया हो तो आपके दोस्त के साथ Share करना ना भूले ।

ओर इससे Releted आपको कोई सवाल हो तो आप बे जिजक कमेंट बॉक्स मे Comment करे के पुच सकते हो ओर 😊

6 thoughts on “SEO क्या है ? और क्यू जरूरी है – (पुरी जानकारी)”

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap